x
x
x

कैसे एक चाय बनाने वाले बन गए चार्टर्ड अकाउंटेंट? महाराष्ट्र सरकार ने बनाया ‘अर्न एंड लर्न’ स्कीम का ब्रांड एंबेस्डर

बैंकिंग और फायनेंस में पुणे के साहु कॉलेज से बीए पास किया....

बीए में मराठी चुनने पर कई लोगों ने सीए ना कर पाने की बात की...

सरकार ने अर्न एंड लर्नस्कीम का ब्रांड एंबेस्डर नियुक्त किया...

 

जो लोग असफलता के बाद ज़िंदगी में संसाधनों का रोना रोते हैं वो दरअसल संसाधनों पर नहीं अनजाने में अपनी कमियों पर रोते हैं, वो अपनी गलतियां छुपाते हैं, उनकी मेहनत में कहीं कोई ऐसी चीज रह जाती है जिसकी वजह से वो परिणाम तक नहीं पहुंच पाते हैं। अभी जिस कहानी से हम आपको रू-ब-रू करा रहे हैं उसको पढ़ने के बाद यक़ीन हो जाएगा कि हिम्मत नहीं हारनी चाहिए, लगन के साथ सही दिशा में मेहनत करते रहें, मंजिल मिलेगी-तय है। 

ये कहानी 28 साल के सोमनाथ गिराम की है। उस सोमनाथ गिराम की, जिसको लोग कुछ दिन पहले तक चाय बेचने वाले के तौर पर जानते थे। उस सोमनाथ की, जिसकी दुकान पर लोग चाय पीने जाते थे और अपनी पसंद की चाय बनवाते पैसे देते और चलते बनते। उस सोमनाथ की, जिससे कभी कोई ये नहीं पूछता कि वो जीवन में क्या करेगा। लेकिन चंद दिनों के भीतर ही ऐसा क्या हुआ कि उनकी पहचान बदल गई..? जी हां, अब उनकी चाय बेचने वाली ये पहचान बदल गई है। अब फिर से सुनिए उनका परिचय। नाम-सोमनाथ गिराम, पुणे के सदाशिव पेठ में चाय बेचते हैं लेकिन चाय बेचते-बेचते उन्होंने ऐसा कुछ कर दिखाया कि आज उनसे मिलने वालों की यहां लंबी कतार लगी है लेकिन लोगों का ये तांता चाय पीने के लिए नहीं, उन्हें बधाई देने के लिए है। सोमनाथ गिराम अब चाय वाले से चार्टर्ड अकाउंटेंट बन गए हैं। चार्टर्ड अकाउंटेंट सोमनाथ गिराम। कल तक लोगों को चाय पिलाने वाले, साधारण सा दिखने वाले इस चाय वाले ने बेहद कठिन माने जाने वाली सीए की परीक्षा पास कर ली है। सोमनाथ को फाइनल परीक्षा में 55 फीसदी अंक हासिल हुए। 

कहते हैं खुशियां आने लगती हैं तो न सिर्फ घर के दरवाज़े से आती हैं बल्कि उसे जहां से जैसे मौका मिलता है घर में दाखिल हो जाती हैं। सोमनाथ गिराम के लिए दोहरी खुशियां एक साथ आई। इधर सीए का रिजल्ट और उधर राज्य सरकार ने उन्हें महाराष्ट्र सरकार की अर्न एंड लर्नस्कीम का ब्रांड एंबेस्डर नियुक्त करने की घोषणा कर दी। अब सोमनाथ गिराम न सिर्फ महाराष्ट्र के बल्कि पूरे देश के वैसे छात्रों के लिए आदर्श बन गए हैं जो संसाधन की कमी की वजहों से पढ़ाई नहीं कर पाते, लेकिन पढ़ाई को छोड़ना भी नहीं चाहते। राज्य के शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने योर स्टोरी को बतायाये काफी सुखद खबर है कि एक चाय बेचने वाले ने सीए जैसी कठिन परीक्षा पास की है, हमने उनका सत्कार किया है। शिक्षा मंत्री तावड़े ने चुटकी लेते हुए कहा कि आजकल देश में चाय बेचने वालों के लिए अच्छे दिन चल रहे हैं, नरेंद्र भाई पीएम की कुर्सी तक पहुंचे तो सोमनाथ ने सीए जैसी कठिन परीक्षा में सफलता हासिल की है। तावड़े ने कहा

सीए की परीक्षा पास करने पर राज्य सरकार ने ये फैसला किया है कि हम सोमनाथ को लर्न एंड अर्नस्कीम का ब्रांड अम्बेस्डर बनाएंगे ताकि ऐसे अन्य छात्रों को इससे प्रेरणा मिले।

महाराष्ट्र के सोलापुर ज़िले के एक छोटे से गांव सांगवी के रहने वाले सोमनाथ में बचपन से ही पढ़-लिख कर कुछ बनने की चाहत थी। लेकिन गरीबी की वजह से उनकी पढ़ाई नहीं हो पाई। घर की गरीबी दूर करने के लिए सोमनाथ को कमाई के लिए अपने गांव से बाहर जाना पड़ा। कहते हैं गरीबी की भूख बहुत खतरनाक होती है। ऐसे में लम्बे समय तक खाना न मिले तो सामने वाला कुछ भी करने को तैयार हो जाता है। जब सोमनाथ को कुछ समझ नहीं आया तो उन्होंने पुणे के सदाशिव पेठ इलाके में एक छोटी सी चाय की दुकान खोल दी। इससे जैस-तैसे सोमनाथ और उनके घर वालों का गुजारा चलने लगा, लेकिन सोमनाथ के अंदर पढ़ने की जो ललक थी वो विषम परिस्थितियों के बावजूद भी जिंदा थी। चाय की दुकान से थोड़े पैसे आने लगे तो पढ़ाई की उनकी उत्कट इच्छा और बलबती होने लगी। सोमनाथ ने एक लक्ष्य साधा। सीए करने का फैसला किया और इसके लिए कठिन परिश्रम करना शुरु किया। दिन के वक्त पढ़ने का टाइम नहीं मिलने पर वो रात-रात जाग कर परीक्षा के लिए तैयारी करते और नोट्स बनाते।

Leave a Comment

Make sure you enter the () required information where indicated. HTML code is not allowed.

Related News

×
×
x